नदी और पहाड़

15-12-2019

अगर नहीं है नदी या पहाड़ यहाँ
तो ऐसा नहीं है कि कहीं नहीं होगा
नदी या पहाड़
कहीं तो होंगे ये दोनों ही 
स्‍मृति में ही सही 
ढूँढ़ निकालना होगा उन्‍हें 
इससे पहले कि याद न रहे कि 
नदी की लहरें चमकती हैं चाँदी की तरह 
और पहाड़ लगातार ऊँचा होता जाता है 
बुलंद इरादों की मानिन्‍द 
कहीं तो होगा नदी या पहाड़
इस वक़्त यहाँ न भी दिखता हो तो भी 
इससे पहले कि सड़कों पर लगातार चलते-चलते
हम भूल जाएँ कि गन्‍तव्‍य हमेशा ज़रूरी नहीं
कम से कम पहाड़ के ख़ूबसूरत और भयानक मोड़
इसकी गवाही आज भी देते हैं 
हमें याद रखना होगा कि 
नदी का गन्‍तव्‍य सागर है 
दूर से दिखता जिसका क्षितिज कहता है
नदी मरी नहीं है 
ज़िंदा है सागर के हृदय में 
और लगातार धड़कती उसकी लहरों में 
इससे पहले कि नदी, पहाड़, सागर 
सब पर से उठ जाए आस्‍था 
आओ नदियों के तटों पर फिर खड़े होकर 
आस्‍था के दीपक जलायें
और तिरा दें उन्‍हें गहन धारा में 
पहाड़ योगी की मानिन्‍द 
उन तैरते दीपकों को दूर से निहारेगा
और बुलंद होंगे उसके हौसले
समंदर लगातार नदियों को आवाज़ देगा
और वो सुध-बुध खो लहराती सी उसमें जा मिलेंगी
अपना अस्तित्‍व खोकर
पा लेंगी सागर की गहराई
सागर धोयेगा पहाड़ के चरणों को
और विनीत भाव लिए करबद्ध मस्‍तक झुकाए
अपनी गहनता को 
सौंप देगा आस्‍थाविहीन होती जा रही 
दुनिया को 
तब मानना ही पड़ेगा कि नदी है, पहाड़ है 
और, समंदर नदी के प्रेम और पहाड़ की
बुलंदी का गवाह है 

0 Comments

Leave a Comment