तुझे हद से ज़्यादा  
    चाहना  गर ग़लत है 
             तो .....
   मैं यह ग़लती बारबार करूँ ।
     तेरे प्यार  में  .....गर 
     मरना भी पड़ जाये तो 
      वह भी है मंज़ूर.... ।
      तेरी हर रंजिश को 
          बारबार सहारूँ, 
        तेरी रूठन को भी  
            खुशी खुशी निवारूँ।
                           पर... तुझे.....!! 
           तेरे प्यार  को  भूला दूँ .....!!!

                  यह..... कभी न करूँ..॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो