महुआ सी ज़िंदगी

01-10-2019

महुआ सी ज़िंदगी

डॉ. अनुराधा चन्देल 'ओस'

महुआ सी है ज़िंदगी
कभी रस भरी
कभी गन्ध भरी
कभी मदभरी
सुकोमल, नाज़ुक सी
किसी को स्वीकार्य 
किसी को नफ़रत
किसी के लिए दवा है
बहुतों के लिए नशा है
ये ज़िंदगी भी कभी
बहकती है मचलती है
महुआ सी ज़िंदगी
भाप बन उतरती है
ये ज़िंदगी भी मचलती है
रूप, पद, यौवन, धन के 
के नशे में बहकती है
लड़खड़ाती है और गिराती है॥

0 Comments

Leave a Comment