अनुभूति करने की कवि में है क्षमता,
व्यक्त करे वह बनती है कविता;
पानी में ही यदि हो दरिद्रता,
कैसे बहेगी सुरसरि सी सरिता।


वारि बहन ही सरिता नहीं है,
शब्द चयन ही कविता नहीं है;
नाले भी होते हैं लाभदायक,
तुकबन्दियाँ मधुर गाने लायक।


पर्वत उदयन सागर विलयन,
नद्यी का प्राकृतिक जीवन,
स्रोत भावना उमड़े जब मन,
प्रगटे कविता तुरन्त उस क्षण। 

0 Comments

Leave a Comment


A PHP Error was encountered

Severity: Core Warning

Message: PHP Startup: Unable to load dynamic library '/usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll' - /usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll: cannot open shared object file: No such file or directory

Filename: Unknown

Line Number: 0

Backtrace: