हो सके तो

01-05-2019

गहन अँधेरे में 
बहुत देर जद्दोजेहद की
पर सब 
निर्जीव होने की हद तक शांत..

उसने आँखों को 
तारे बना कर 
रात की चौखट पर टाँग 
रखा था.. 
उम्मीद की 
एक घंटी लगाई थी
बिल्कुल बीचों-बीच...
और कान 
निकाल कर 
दहलीज़ पर रख दिए थे..
कि सुन सकें 
छोटी सी भी सरसराहट
उसके आने की।

पर हवा को उससे 
कोई पुराना हिसाब
करना था..
उसने पत्तों को
नृत्य के लिए उकसाया...
बालकनी में बँधी 
चाँदनी को 
ज़ोर से ज़मीं 
पर पटक डाला..
और रास्ते की धूल से 
हाथ झाड़ लिए।

हवा ने मनमानी की ...  
तो
तारे पत्थराई सी हालत में 
पत्तों का
नृत्य निगलते रहे ...
दहलीज़ पर चिपके कान
अपनी शक्ति से 
क्षीण हो 
पायदान बन गए ...
उम्मीद की घंटी 
दर्द से 
कराह कर 
पहले ही
थक चुकी थी

उसके सारे हिस्से 
अलग-थलग 
पड़े थे...
पर
समेटने की 
ताक़त न थी उसमें...
हाथ में पकड़ा ख़त
पहरों से 
फड़फड़ा रहा था...
हो सके तो मुझे माफ़ कर देना।

0 Comments

Leave a Comment