ग़रीब वंचित का आनंद

01-08-2021

ग़रीब वंचित का आनंद

मास्टर भूताराम जाखल

देखे हैं मैंने
ग़रीब वंचित लोग अमीरी वाले
जीते हैं ज़िंदगी वे ऐसे
कि अमीर सोच के रहते हैरान
 
वो हैरानगी, उनके संतोष समक्ष
हथियार डाल देती है
ख़ुशी के मालामाल तो हैं वे नहीं 
पर मालामाली में मालामाल से अमीर,
 
जिन्हें देखना हो या परखना हो
समझना हो या हो फिर पढ़ना 
उन लोगों के समझ के परे
जो मदमस्त होते हैं वो अमीरी में
 
उस ग़रीब का जो भूखा होते हुए 
भूखे को देता भोजन और पानी
साथ ही देता है वो जो दे नहीं पाते
जिसे कह सकते हो आप —
ग़रीब वंचित का आनंद।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में