गढ़ती नयी कहानी है

डॉ. प्रमोद सोनवानी 'पुष्प'

परियों की रानी कथा - कहानी,
मुझको रोज़ सुनाती है।
निंदिया रानी के संग आकर,
गढ़ती नयी कहानी है॥1॥

खेल-खिलौने देती मुझको,
मन मेरा बहलाती है।
रंग - बिरंगे पंखों वाली,
लगती बड़ी सयानी है॥2॥

जादू की फिर छड़ी घुमाकर,
मुझको सैर कराती है।
प्रेम - प्रीत का पाठ पढ़ाकर,
गढ़ती नयी कहानी है॥3॥

0 Comments

Leave a Comment