एक पिता की वेदना

01-10-2019

एक पिता की वेदना

किशन नेगी 'एकांत'

पत्नी को
मुझसे शिकायत
माँ को
मुझसे शिकायत
मगर मैं किससे शिकायत करूँ


पत्नी को
मुझसे उम्मीदें
बच्चों को
मुझसे उम्मीदें
माँ को
मुझसे उम्मीदें
मगर मैं किससे उम्मीद करूँ


पत्नी को
मुझसे नाराज़गी
बच्चों को
मुझसे नाराज़गी
माँ को
मुझसे नाराज़गी
मगर मैं किससे नाराज़गी व्यक्त करूँ


पत्नी दुखी
तो मैं दुखी
बच्चे दुखी
तो मैं दुखी
माँ दुखी
तो मैं दुखी
मगर मैं दुखी तो कोई दुखी नहीं


सबके सुख-दुःख मैं बाँटूँ
मेरा बाँटे न कोय
इस सफ़र में सब मतलब के यार हैं

0 Comments

Leave a Comment