12-01-2016

एक आश्रम अशान्त

दिविक रमेश

एक शान्त जलधारा है
  एक शान्त किनारा है
    मंदिर में गूँज रहा
      घंटा भी शान्त है
        मंत्र उच्चार रहे
          भक्त भी शान्त हैं
            बोलते भी शान्त हैं
               हँसते भी शान्त हैं
                 प्रश्न सब शान्त हैं
                   उत्तर सब शान्त हैं

शान्त हैं
  धरती से जुड़ी तमाम वनस्पतियाँ
    शान्त हैं
      आकाश को ताकते तमाम वृक्ष
        कलरव भी शान्त है
          शान्त है आवाज भी
            शान्त हर ओर है
              शान्त सब शोर है
               शान्त आसपास है
                 क्षितिजों तक
                  बस शान्त ही शान्त है
                    तो फिर
                      रहना अशान्त मेरा
                        क्या नहीं है अनुचित?
                      खोजता हूँ तो पाता हूँ
                     एक मरियल सी जिज्ञासा है
                    एक लकीर सी शंका है
                   एक गर्दन उठाए स्वार्थ है
                  एक अनुभवहीन तर्क है
                 एक अहंकारी श्रद्धा है
                एक चाटुकार विनय है
                  खोने में पाना है
                    देने में लेना है
                      शब्दों में शोर है
                        आवाज में भीड़ है
                          चिन्तन में चीर है
                            लालच के ढूँह पर
                               बैठा फकीर है।
                                  शान्त को भीतर से
                                     खाता हुआ अशान्त है।

चुप भी अशान्त है
सब कुछ अशान्त है। 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
स्मृति लेख
पुस्तक समीक्षा
साहित्यिक
बाल साहित्य कविता
सांस्कृतिक कथा
हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कहानी
बात-चीत
विडियो
ऑडियो