धागा,
जो प्रेम का होता है
धागा,
जो मोती पिरोता है
धागा,
जो फूलों की माला गूँथता है
वही धागा
माटी को माटी से जुदा करता है
अलग रूप, अलग रंग,
अलग आकार देता है
धागा,
जोड़ता ही नहीं, तोड़ता भी है
जैसे प्रेम में
सँवरते नहीं, कुछ बिखर भी जाते हैं
माटी का तन
माटी में मिलना है एक दिन
सब जानते हैं
किसी का
सोने-सा मन माटी हो जाता है
धागा,
प्रेम का हो या कुम्हार का
जोड़ता ही नहीं तोड़ता भी है।

0 Comments

Leave a Comment