बस इतना ही मालूम था मुझे
कि एक डोर है यह
जिसका यह सिरा मेरे हाथ में है।

 

कहाँ है दूसरा सिरा
सब कुछ अदृश्य था
जितना भी खींच लूँ
हिला लूँ कितना भी
कहीं कोई तनाव नहीं था डोर में
हालाँकि
आ बसा था तनाव
पूरा 
मेरी देह में

 

डर भी था कितना
और वह भी अजाना
कि नहीं छोड़ पा रहा था डोर को।

 

तभी किसी विचार की तरह
न जाने कैसे सूझा
और पाया
वह डोर, डोर थी ही नहीं
एक उँगली थी किसी दैत्य की

 

मेरा हिलना डुलना
यहाँ तक कि चलना भी 
उसी उँगली के वश था

 

मैं स्वयं
जैसे उसी के वशीभूत था
उसकी अद्भुत आत्मीयता से

 

उसकी उँगलियों से ही
निरन्तर उतर रही थीं
उदासियाँ
मेरी देह में
कि तन रही थी जो निरन्तर

 

और मैं
कुर्बानी की हद तक
स्वीकार कर रहा था जिन्हें।

 

कितनी कठोर होती है सच की समझ
मैंने जाना था।

 

झटक दिया था
एक ही झटके में
मैंने उस दैत्य की उँगली को

 

आश्चर्य!
न डर था, न तनाव
मैं स्थिर था
मेरी उदासियाँ तक
कुर्बान हो चली थीं
खुद मुझ पर।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
स्मृति लेख
पुस्तक समीक्षा
साहित्यिक
बाल साहित्य कविता
सांस्कृतिक कथा
हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कहानी
बात-चीत
विडियो
ऑडियो