भूख तृषित करती तन को,
भूख भ्रमित करती मन को।
भूख है ऐसी अभिलाषा,
उत्तेजित करती जन जन को।

जो भूख उदर में जागृत हो,
भोजन पाकर वह मिट जाती।
जो भूख हो सुख संपत्ति की,
अवसर पाकर वह बढ़ जाती।

यह भूख है ऐसी दौलत की,
अंकों में मन उलझा देती।
सुख चैन छीन लेती मन का,
सत् पथ से मन भटका देती। 

एक भूख राजसत्ता की है,
जो पैसे के बल पर चलती।
नियम को करती दरकिनार,
जो जनता को हर पल छलती।

एक भूख है ख़ून ख़राबे की,
जो आतंकी बनकर दिखती।
क्या मिलता है इससे भाई,
जो मानवता को ही लीलती।

ऐसी भूख जगायें मन में,
जिससे प्यार बढ़े जन जन में।
स्वस्थ समृद्ध हो हर घर आँगन,
झलके जीवन हर तन मन में।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो