बंद कमरे में

01-05-2020

बंद कमरे में

राम रत्न शर्मा

बंद कमरे में
सहमी सी
दुबकी पड़ी ज़िंदगी
अपने से लड़ती हुई जिदंगी
बचने को हाथ-पाँव मारती ज़िंदगी
यह सब कोरोना की सौगात 
या कि -
बेलगाम लालसा का उपहार?
जब देखो 
बस-
इसी सोच में फँसी है ज़िंदगी।


बाहर जो झाँको तो बंद बाज़ार है
न कोई ग्राहक न कोई दुकानदार है 
कहीं सजा तो बस मौत का दरबार है
यह देख कर सहमी है ज़िंदगी।


दूरदर्शन पर
जब भी कुछ आए तो केवल
मौत के आँकड़ों की आए ख़बर
तब ताबूत और क़ब्र ही आएँ नज़र


हे मानव!
तेरा ही निर्माण क्या तुझे खाएगा
यही सोच कर विमूढ़ हो रही ज़िंदगी।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो