आजकल (रोहिताश बैरवा)

01-10-2020

आजकल (रोहिताश बैरवा)

रोहिताश बैरवा

हर एक पल बड़े ही तनाव में जी रहा हूँ,
में आज कल सुख के अभाव में जी रहा हूँ।
दिन रात का होश नही बस समय गुज़ारता हूँ,
मैंं आजकल तानों के दुष्प्रभाव में जी रहा हूँ॥
 
हर दिन गुज़रता है चिंताओं में मेरा,
मैं आज कल अजीब से स्वभाव में जी रहा हूँ।
बुरे सम्बोधन से मन दुखी रहता है,
मैं आजकल दुश्वारियों के कुप्रभाव में जी रहा हूँ॥
 
क़िस्मत मेरे साथ नन्हीं और सब लोग भी विरोधी हैं,
मैं आजकल फिर भी जीत के भाव मे जी रहा हूँ।
बहता था कभी मैं भी इन नदियों की तीव्र धार सा,
मैं आजकल चुपचाप शांत जमाव सा जी रहा हूँ॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में