पुस्तक विमोचन व विराट कवि सम्मेलन तमनार में सम्पन्न

09 Oct, 2019
पुस्तक विमोचन व विराट कवि सम्मेलन तमनार में सम्पन्न

पुस्तक विमोचन व विराट कवि सम्मेलन तमनार में सम्पन्न

’दर्दोगम की बस्ती’ नामक पुस्तक हृदय को उद्वेलित करने वाली है - जयशंकर


रायगढ़ - औद्योगिक व वनांचल तहसील तमनार के नवदुर्गा समिति बरभांठा द्वारा पुस्तक विमोचन एवं विराट कवि सम्मेलन का सफल आयोजन गत् दिवांक 05 अक्टूबर को किया गया।

उक्त आयोजन के मुख्य अतिथि रायगढ़ के ख्यातिलब्ध साहित्यकार पं. शिवकुमार पाण्डेय जी, कार्यक्रम अध्यक्ष ग़ज़लकार शुकदेव पटनायक जी, विशिष्ट अतिथि प्रो. के. के. तिवारी जी व कवि कमल बहिदार जी थे।

कार्यक्रम के प्रथम चरण में माँ ज्ञानदात्री महासरस्वती जी के छायाचित्र पर माल्यार्पण व समक्ष दीप, धूप प्रज्वलित करके कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ किया गया। तत्पश्चात स्वागत के क्रम में आयोजक समिति के सक्रिय सदस्यों ने सभी साहित्यकारों को तिलक लगाकर व श्रीफल प्रदान करके स्वागत - सम्मान किया।

स्वागत पश्चात् अंचल के प्रतिष्ठित ग़ज़लकार जयशंकर प्रसाद डनसेना जी द्वारा सृजित ग़ज़ल संग्रह "दर्दोगम की बस्ती" नामक पुस्तक का विमोचन अतिथियों व आमंत्रित कवियों के हाथों से हुआ। अपने उद्बोधन में जयशंकर जी ने कहा कि - "मैंने, जल - जंगल व ज़मीन को लक्ष्य बनाकर जो ग़ज़ल सृजन किया है। वह, प्रत्येक आँचलिक के हृदय को उद्वेलित करने वाली हैं। समस्त रचनाएँ मात्र कोरी कल्पना नहीं वरन् यथार्थ के धरातल पर सृजित की गई ग़ज़ल हैं। आशा है, पाठक जगत स्वागत करेंगे।"

तृतीय चरण में आमंत्रित रचनाकारों द्वारा अपने - अपने प्रतिनिधि कविताओं का पाठ किया गया। जिसमें पं. शिवकुमार पाण्डेय, प्रो. के. के. तिवारी, कमल बहिदार, राघवेन्द्र सिंह रुहेल, डॉ. दिलीप गुप्ता, शुकदेव पटनायक, रूखमणी राजपूत, स्नेहलता सिंह 'स्नेह', पुष्पलता पटनायक, संतोष पैंकरा, उग्रसेन स्वर्णकार, तेजराम चौहान, जय शंकर प्रसाद डनसेना, बालकवि प्रमोद सोनवानी 'पुष्प', सिमरन साहू, कन्हैया पड़िहारी, मिमिक्री कलाकार सेतकुमार गुप्ता आदि प्रमुख हैं।

कार्यक्रम के अंतिम चरण में आयोजक समिति द्वारा सभी प्रतिभागी रचनाकारों को स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया गया। 

कुशल मंच संचालन घरघोड़ा से पधारे प्रतिष्ठित कवि डॉ. दिलीप गुप्ता जी ने किया।

आयोजन को सफल बनाने में रूपचन्द्र गुप्ता, परमानंद पटनायक, डॉ. मित्रभान गुप्ता, अरविन्द गुप्ता, प्रमोद साव, गोपाल गुप्ता, प्रदीप नायक आदि  की भूमिका सराहनीय रही। 
उक्त सफल कवि सम्मेलन अंचल में चर्चा का विषय है।

Share this News