वीणा विज 'उदित'

वीणा विज

वीणा विज 'उदित'

कलाकार , कवयित्री व साहित्यकार

परिचय : 

लाहौर में जन्मी, विभाजन के पश्चात मध्यप्रदेश की सोंधी मिट्टी की सुगंध में जीवन की ऊँच-नीच की शिक्षा पा कर पंजाब की धूप में शिकन और झुर्रियों को पनाह दी। एम.एड में जबलपुर विश्वविद्यालीय स्वर्ण पदक मिला। १९६३ में बैस्ट एन.सी.सी अंडर आँफ़िसर बनीं। नृत्य-नाट्य़ में गहन अभिरुचि रही। १९८३ से दूर-दर्शन और आकाशवाणी जलंधर से जुड़ गईं। हिन्दी और पंजाबी के तकरीबन सौ नाटकों, धारावाहिकों व फिल्मों मे सन्‌ २००० तक अभिनय किया।

शिक्षा : एम ए एम एड जबलपुर में।

सम्मान : ढेरो ईनाम। कहानियों व कविताओं के लिए देश-विदेश में। जैसे २००७ में कहानी-संग्रह ‘पिघलती-शिला’को आथर्स गिल्ड़ ऑफ इंड़िया ने सर्वोत्तम कहानी-संग्रह घोषित कर लेखिका को ‘साहित्य सर्वोदय’ की उपाधि दी वगैरह-वगैरह।

निवास : चार माह कश्मीर, छैः माह अमेरिका व दो माह जलंधर पंजाब

सम्प्रति : आज भी देश-विदेश में रहते हुए भी राष्ट्रीय एवम्‌ ई-पत्रिकाओं से जुड़ी रहती हैं।

प्रकाशित कृतियाँ : 

  • सन्नाटों के पहरेदार- काव्य संग्रह

  • पिघलती शिला- कहानी संग्रह

  • कदम ज़िंदगी के – काव्य संग्रह

  • तुरपाई तथा अन्य कहानियाँ- कहानी संग्रह

वेबसाइट : veenavij.com