अन्तरजाल पर आपकी मासिक पत्रिका

अन्तरजाल पर साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली
वर्ष: 13, अंक 117,  अप्रैल प्रथम अंक, 2017
ISSN 2292-9754

लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं।  सर्वाधिकार सुरक्षित। साहित्य कुंज में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और साहित्य कुंज टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।
सम्पादक:- सुमन कुमार घई; साहित्यिक परामर्श:- डॉ. शैलजा सक्सेना; सहायता - विजय विक्रान्त; संरक्षक - महाकवि प्रो. हरिशंकर आदेश

कविता  |  कहानी  |  लघु-कथा  | सांस्कृतिक-कथा आपबीती  |  आलेख  |  हास्य-व्यंग्य  |   हास्य-व्यंग्य  |  हास्य/व्यंग्य कविताएँ
महाकाव्य  |  अनूदित-साहित्य  |  नाटक  |  लेखक  |  संकलन  |  ई-पुस्तकालय  |  साहित्यिक-चर्चा  |  शोध निबन्ध 
शायरी  |  शायर  |    बाल साहित्य  |  हिन्दी ब्लॉग  |  पुस्तक समीक्षा / पुस्तक चर्चा  |  साक्षात्कार  |  संपादकीय
इस अंक में  |  पुराने अंक  

सम्पादकीय: आवश्यकता है युवा साहित्य की -
 - आज की महानगरीय संस्कृति की व्यवहारिक समस्याओं की समानान्तरता उनके पात्रों में खोजने का प्रयास मत करें। अपनी पगडंडियाँ स्वयं बनायें, आपके मील के पत्थर आपके अपने हों। इस युग में अपना स्थान बनाने के लिए युवाओं के संघर्ष को समझें तो वह संघर्ष मुंशी प्रेमचन्द के पात्रों के संघर्ष से किसी भी तरह कम नहीं है।  पूरा पढ़ें...

आपके पत्र - शुद्ध लेखन युक्तियाँ - पुस्तक बाज़ार.कॉम -
 इस स्तंभ में साहित्य कुंज व हिन्दी साहित्य के बारे में आपके पत्र प्रकाशित किए जायेंगे।
रचनाओं पर अपनी प्रतिक्रिया के लिए रचना के नीचे "अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें" बटन पर क्लिक करें और अपनी प्रतिक्रिया तुरंत सीधे लेखक/लेखिका को भेजें। धन्यवाद -
इस अंक के पत्र -
  1. हिन्दी व्याकरण -    
  2. कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय  
    भारतकोश
    हिन्दी साहित्य\
    कविता का व्याकरण एवं छंद - भारतकोश
    हिन्दी व्याकरण वीकिपीडिया
    पूर्ण विराम के बाद एक स्पेस या डबल स्पेस

हिन्दी की ई-पुस्तकें खरीदने और प्रकाशित करवाने के लिए कृपया नीचे दिये लिंक पर क्लिक करें: pustakbazaar.com
पुस्तक बाज़ार के नये प्रकाशन
इस अंक की कहानियाँ -
लाली मेरे लाल की...
प्रो. रमानाथ शर्मा
पापा मैं तारा बन गयी
गुडविन मसीह
रीति रिवाज
मंजु सिंह
हास्य-व्यंग्य - (आलेख) हास्य-व्यंग्य - कविता - सांस्कृतिक-कथा -
शर्मा एक्सक्लूसिव पैट् शॉप - डॉ. अशोक गौतम
तेरी सोच-मेरी सोच - प्रमोद यादव
लांच से ज़्यादा लंच में रुचि - अमित शर्मा
आँख नहीं लगती - राम कृष्ण खुराना
मास्टर श्यामलाल, एग्ज़ाम एंथम - अभिषेक कुमार अम्बर
नेताजी-नेताजी - अमर परमार

चूहे का ब्याह
(इथोपिया की लोककथा)
डॉ. रश्मि शील
बाल साहित्य - लघु कथा -  साक्षात्कार-
टीना ने चोरी पकड़वाई (कहानी) - प्रभुदयाल श्रीवास्तव
सूरज भैया - प्रभुदयाल श्रीवास्तव
मंच से झरता इंक़लाब - बृज राज किशोर "राहगीर"
मददगार, व्यापार - ओमप्रकाश क्षत्रिय ‘प्रकाश’

आलेख शृंखला - साहित्य और सिनेमा -  शोध निबन्ध -  
इसी बहाने से-
मेपल तले, कविता पले
समीक्षा - 7
डॉ. शैलजा सक्सेना

ऑस्कर वाईल्ड कृत महान औपन्यासिक कृति : पिक्चर ऑफ़ डोरिएन ग्रे
प्रो. एम. वेंकटेश्वर
पितृ-सत्ता से टकराहट और स्त्री विमर्श - विकास वर्मा
समकालीन कवि रघुवीर सहाय की कविता में दलित विमर्श - आशीष गुप्ता
अरुण कमल की आलोचना दृष्टि - पीयूष कुमार पाचक
हिंदी की संवैधानिक स्थिति - बृजेन्द्र कुमार अग्निहोत्री
आलेख - शोध निबन्ध -  अनूदित साहित्य
आधी आबादी की प्रतिभाओं का आकाश
मंजु गुप्ता
भीष्म साहनी के साहित्य में वैचारिक चिंतन -  रवि कुमार गोंड़
"नयी कहानी" के आलोचक देवीशंकर अवस्थी - डॉ. दीना नाथ मौर्य
(हास्य-व्यंग्य)
जवानी और बुढ़ापा
(मूल लेखक - डॉ. मोहम्मद युनूस बट)
अनुवाद - अखतर अली
कविताएँ - शायरी -
हिस्से की धूप, कैसे होते हैं वह अच्छे घर - रजनी कुमारी
समय - समीक्षा तैलंग
पैर व चप्पलें, पाँच बज गये, वसंत, पर्वत - रामदयाल रोहज
मेला है भाई मेला है, एक ज्वार, मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता हूँ - अमर परमार
गॉड पार्टिकल, रिश्तों के पुल, हँसते ही - गिरिजा अरोड़ा
एक नन्ही सी परी, कौन कहता है इश्क़ इक बार होता है? - हरिपाल सिंह रावत
वापसी - अखिल भंडारी
प्रतिरोध, कक्षा की सबसे होशियार लड़की, बचा रहे औरत का चिड़ियापन, फिर कठिन होगा - माधव नागदा
देवी की प्रतिमा, शक्ति - पुष्पा मेहरा
हिंदुस्तानी नारी -  महेश पुष्पद
मन का चोला, अस्तित्व, मदर स्पैरो, काँटों से यारी, तड़पन - डॉ. सुषमा गुप्ता
उन पाप के नोटों का क्या होगा?, बूढ़ा पहाड़ी घर - डॉ. कविता भट्ट
कौन बतलाये हुआ है, रातों को दिल के करघे पर, पंख फैलाओ अगर - मंजूषा मन
दिल के लहू में - डॉ. विजय कुमार सुखवानी
शमशीर हाथ में हो, बज़्म में गीत गाता हुआ कौन है - गंगाधर शर्मा "हिन्दुस्तान"
प्यासे को पानी, जिसे सिखलाया बोलना, अपनी सरकार - सुशील यादव
सीखे नहीं सबक भी, बारिश - हरदीप बिरदी
पुस्तक समीक्षा / चर्चा-  पुस्तक समीक्षा / चर्चा-  पुस्तक समीक्षा / चर्चा- 
      
यात्रा संस्मरण - आप-बीती / संस्मरण - नाटक -
कनाडा डायरी के पन्ने
17_मातृत्व की पुकार
सुधा भार्गव
जीवन राग
विजयानंद विजय
हम तुमसे ख़ुश हुये... - डॉ. विनोद कुमार गुप्त
साहित्यिक समाचार -

13वाँ अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन बाली (इंडोनेशिया) में
डॉ. अशोक कुमार प्रसाद

डॉ. ऋषभदेव शर्मा "अंतरराष्ट्रीय साहित्य गौरव सम्मान" से अलंकृत
डॉ. गुर्रमकोंडा नीरजा

स्त्री साहित्य पर एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी संपन्न
डॉ. गुर्रमकोंडा नीरजा
ई - पुस्तकालय - (इस स्तम्भ में पुस्तकों का प्रकाशन धारावाहिक रूप में होगा) संकलन -

भीगे पंख
लेखक : महेश द्विवेदी
मोहित-2

शकुन्तला
पूर्व खण्ड - प्रथम सर्ग
उदय-
7 8 9 10

महादेवी वर्मा
डॉ. हरिवंश राय बच्चन
आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी
त्रिलोचन शास्त्री
नागार्जुन
सूचना - साहित्य संगम -
साहित्य कुंज के नए अंकों की सूचना पाने के लिए अपना ई-मेल पता भेजें

Powered by us.groups.yahoo.com

अनुभूति-अभिव्यक्ति  
काव्यालय
लघुकथा.com
साहित्य सरिता
विचारों का वृन्दावन वन! (साउंड क्लाऊड)
हिन्दी नेस्ट
सृजनगाथा
कृत्या
हिन्दी हाइकु
साहित्य सेतु
अपनी रचनाएँ भेजें:-
कृपया अपनी रचनाएँ निम्नलिखित ई-मेल पर भेजें
sahityakunj@gmail.com
अथवा डाक द्वारा भेजें:-
Sahitya Kunj,
3421 Fenwick Crescent
Mississauga, ON, L5L N7
Canada