ज़रूरत है

15-04-2020

ज़रूरत है

निर्मल सिद्धू

आवाज़ को सुरों की ज़रूरत है
दिलों को चाहतों की ज़रूरत है
छोड़ देना तन्हा किसी को बड़ी बात नहीं
साथ देने के लिये पर हौसलों की ज़रूरत है


अँधेरे भी सदा क़ायम तो रह नहीं सकते
डूबते सूरज को नई किरणों की ज़रूरत है
ज़माना तो कभी रहम-दिल हो नहीं सकता
हर उम्र को इसलिये नये सपनों की ज़रूरत है,


हालात गर बदलने हैं, वक़्त गर बदलना है
फिर यहाँ कुछ सरफिरे दीवानों की ज़रूरत है
दूर कर दे ग़म के साये, गुलज़ार हो चमन सबका
इन फ़िज़ाओं को फ़कत उन बहारों की ज़रूरत है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
नज़्म
कविता - हाइकु
ग़ज़ल
गीत-नवगीत
अनूदित कविता
लघुकथा
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में