ये मैंने रुपये जोड़े

15-05-2019

ये मैंने रुपये जोड़े

नरेंद्र श्रीवास्तव

कक्षा में बैठा था बबलू
आज बहुत उदास।
बात जानने पिंकी आया
फ़ौरन उसके पास॥

बोला बबलू दुखी होकर
मैं कैसे समझाऊँ?
इंतज़ाम न हो पाया 
मैं कैसे फ़ीस चुकाऊँ?

पिंकी बोला-फ़ीस जमा करो
क्यों माथा है फोड़े।
जेब ख़र्च से बचा-बचाकर
ये मैंने रुपये जोड़े॥

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
कविता
बाल साहित्य आलेख
किशोर साहित्य कविता
अपनी बात
कविता - हाइकु
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
हास्य-व्यंग्य कविता
नवगीत
विडियो
ऑडियो