वो झरना बनने की तैयारी में है

08-12-2018

वो झरना बनने की तैयारी में है

डॉ. शैलजा सक्सेना

वह जान गई है
बह निकलने के लिये
तेज़ करना होगा अपना ही वेग,
डरों से डरना नहीं होगा
फुसलावों से बहकना नहीं होगा..
पत्थरों की कठोरता से अब घबराती नहीं वो
अपने में पैदा कर लिया है
उसने इतना शोर 
कि सुन ही नहीं पाती 
आँधियों की आवाज़ तक..
पूरी निष्ठा से वह जुटी है
झरना बनने की तैयारी में।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - हाइकु
पुस्तक समीक्षा
कविता
कहानी
कविता-मुक्तक
लघुकथा
स्मृति लेख
साहित्यिक आलेख
कथा साहित्य
विडियो
ऑडियो