वो हँसता अपनी मुश्किलों पे यूँ

15-06-2020

वो हँसता अपनी मुश्किलों पे यूँ

समितिञ्जय शुक्ल 

वो हँसता अपनी मुश्किलों पे यूँ
कि शर्मा देता –
देखने वालों को 
उस पर हँसने वालों को
उस पर आस रखने वालों को
एहसान डालने वालों को,
हिसाब माँगने वाले लोगों को,
हर सामने वाले को,
छिपे, मरे गड़े, उसे हर जानने वाले को,
स्वयं को भी!

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें