विडम्बना

01-04-2021

बादल देख प्रसन्न हो जाता
ख़ुशी के आँसू बहाता है
बिन बारिश भी फ़सल उगाये
कर्ज़ तले दब जाता है।
 
ख़ुश हो जाता अन्न उगाकर
भूखा वही सो जाता है
चिंता में फँसकर अक़्सर
मौत के मुँह चढ़ जाता है।
 
ख़ुशी-ख़ुशी जो औरों का
रहने का ठिकाना बनाता है
बाढ़ में मैंने देखा अक़्सर
घर उसका बह जाता है।
 
सिखा दिया चलना जिसने
सबक़ सिखाया जाता है
अपनों की ही बस्ती में
ग़ैर वही हो जाता है।
 
कोख में पाला है जिसने
उसे प्यार बताया जाता है
नफ़रत से अंदर का दीपक
अक़्सर बुझाया जाता है।
 
स्वर्ग-नरक के चक्कर में
दुनिया का चक्कर काटता है
क़दमों तले जिसके ज़न्नत
विडम्बना– दूर हो जाता है।
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें