माँ! मैं तेरे चरणों में
नित शीश झुकाऊँ।
बारम्बार विनय करूँ
सदा तेरी कृपा पाऊँ॥

इतनी बुद्धि देना मुझे
अच्छे नंबर पाऊँ।
मम्मी, पापा,गुरुजनों से
"अच्छा बेटा" कहलाऊँ॥

मेरे मित्र बनें सभी
कोई कभी न रूठे।
पढ़ें और खेलें संग
साथ कभी न छूटे॥

आदत बुरी न आए
ग़लत राह न जाऊँ।
इतना लायक़ करना
काम सभी के आऊँ॥

माँ! मैं छोटा जानूँ न
कैसे तुझे मनाऊँ।
बारम्बार विनय करूँ
सदा तेरी कृपा पाऊँ॥

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य आलेख
कविता
बाल साहित्य कविता
बाल साहित्य आलेख
किशोर साहित्य कविता
अपनी बात
कविता - हाइकु
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
हास्य-व्यंग्य कविता
नवगीत
विडियो
ऑडियो