वादा और आश्वासन 

15-10-2020

वादा और आश्वासन 

राजनन्दन सिंह

मैंने तो आश्वासन दिया था
कोई वादा थोड़े ही किया था
और वैसे भी वो दिन
तुमसे कुछ लेने के दिन थे
वोट तुमने अपनी मर्ज़ी से दी थी
मैंने कोई ज़बर्दस्ती नहीं की थी
 
आज मैं कुर्सीदार हूँ
और तुम मुझसे नाराज़ हो
तो मैं क्या करूँ
तेरी ज़रूरतें देखूँ
या अपना घर भरूँ
नाराज़ होना अपने घर में
दो रोटी ज़्यादा खाना
मगर मैं तो पहले 
अपना घर भरूँगा
जिसे तुम्हारी और उनकी विनती में
मैंने ख़ाली कर लिया था
 
कल फिर तुम्हारी मर्ज़ी है
वोट देना या न देना
आज तो मैं हँसकर जिऊँगा
खुलकर पिऊँगा
जिस ज़िंदगी का मैंने 
वर्षों इंतज़ार किया था

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में