उत्सर्जन में आनन्द

01-02-2021

उत्सर्जन में आनन्द

राजनन्दन सिंह

उत्सर्जन में
एक आनन्द है
जैसे हम 
किसी सरखपाऊ चिन्ता से
चिन्तामुक्त होते हैं
किसी कष्टप्रद बीमारी से
छुटकारा पाते हैं
यह उत्सर्जन है
स्वेद और कफ़ का बाहर आना
मल-मूत्र या वायु 
यानि विकारों का त्याग
उत्सर्जन है
अधम लोभ 
भय निंदा ईर्ष्या आलस्य, संकोच,
और नुक़सान दे रही
सादगी का त्याग भी
उत्सर्जन ही है
अपने विकारों से मुक्त होना
एक सुख है, 
संतोष है
आशा है 
उमंग है 
आनंद है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में