मैं अब भी
थोड़ा सा शेष हूँ
हो सके, तो रोक लो
अपनी आवाज़ से छूकर
तुम्हारे अभाव
उपजती हुई ऊष्मा में
मेरा निरंतर पिघलना

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में