उड़न खटोला पाते जी

01-05-2019

उड़न खटोला पाते जी

डॉ. प्रमोद सोनवानी 'पुष्प'

बढ़िया से एक उड़न खटोला,
काश कहीं से पाते जी।
अपने भैया अजय-विजय संग,
दूर गगन में जाते जी॥1॥

चाँद-सितारों की दुनिया में,
ज़ेब लगाकर चक्कर जी।
बैठ मजे से फिर चंदा संग,
हम खाते घी-शक्कर जी॥2॥

0 Comments

Leave a Comment