तूने तपस्या अपनी तरह की

20-02-2019

तूने तपस्या अपनी तरह की

महेश रौतेला

तूने तपस्या अपनी तरह की
मैंने तपस्या अपनी तरह की,
यह भी सच है कि पेड़ के नीचे नहीं की,
यह भी सच है कि हिमालय में नहीं की,
यह भी सच है कि गुफा में नहीं की,
यह भी सच है कि कन्दरा में नहीं की,
यह भी सच है कि मन्दिर में नहीं की,
यह भी सच है कि तीर्थ पर नहीं की,
यह भी सच है कि भूखे पेट नहीं की,
यह भी सच है कि प्यासे नहीं की।
मैंने तप किया
किसी को मन में रख कर
किसी के मन में रह कर।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी
कविता
विडियो
ऑडियो