तीसरे बन्दर का मतलब

बसंत आर्य

मंत्री बनने के बाद मिले
तो गुलाब की तरह खिले खिले
सोफ़े में धँसे हुए
एकदम प्रसन्न थे
और हम उनकी मुद्रा देखकर
सन्न थे
आँखें बन्द थी
कान बन्द थे
पर मुँह खुला था
मानो गाँधीजी के तीनों बंदरों का
रूप मिला जुला था
पर दृश्य नायाब था
क्योंकि तीसरा बन्दर ग़ायब था
मैंने पूछा- मंत्रीजी
क्या आपने अन्याय के ख़िलाफ़
आवाज़ उठाने के लिए
मुँह खुला रखा है?
तो बोले-
हमारी आँखें बन्द हैं
क्योंकि अत्याचार हमें नहीं दिखता है
कान बन्द है
क्योंकि सुनाई नहीं देता
अगर कोई चीखता है
और बचा मुँह
तो आपका मन भी
बड़ा भोला है
अरे मुँह तो हमने 
खाने पीने के लिये खोला है

0 Comments

Leave a Comment