मैंने साँस भी नहीं ली
उस समय, जब तुम गोद में थे
सिर्फ़ इसलिए, कि तरंगे साँसों की
कहीं तोड़ ना दें क्रम
तुम्हारी नींद में उतरती हुई
सफ़ेद पोशाक पहनी परियों का

मैंने कोई अपेक्षा नहीं की
और ना ही रखी, कोई अबोली इच्छा
फिर क्यों, मन में
घास की तरह, स्वतः उग आए
सपनों के निःश्वास हो जाने पर
उठती है एक टीस

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में