तीन लोग

15-09-2020

तीन लोग

आलोक कौशिक

तीन लोग 
संसद के बाहर 
प्रदर्शन कर रहे थे 
और नारे लगा रहे थे 
 
एक कह रहा था 
हमें मंदिर चाहिए 
दूसरा कह रहा था 
हमें मस्जिद चाहिए 
और तीसरा कह रहा था 
हमें रोटी चाहिए 
 
कुछ वर्षों के बाद 
मंदिर वाला और मस्जिद वाला 
संसद के भीतर दिखने लगा 
और रोटी वाला 
संघर्ष करता हुआ 
अपनी रोटी के लिए 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
लघुकथा
कहानी
गीत-नवगीत
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो