तंत्र का जन

सुशील कुमार

मरना होगा
रोज़ - रोज़
जनतंत्र में
तंत्र का जन बन कर

जन का तंत्र के बन जाने तक।|

0 Comments

Leave a Comment