स्वतन्त्रता

03-05-2012

भारत के इतिहासी धन में है दीप्तमान १५ अगस्त
सब काट दासता की बेड़ी हुआ कीर्तिमान १५ अगस्त।
जो मिटे स्वतन्त्रता वेदी पर सिन्दूर मिटाया बहनों ने
उनकी ही याद दिलाने को करता अह्वान १५ अगस्त।

तुम नहीं भूल जाना इनको देखो इनके बलिदानों को
भारत स्वतन्त्रता की गरिमा है यह निशान १५ अगस्त।
हम हैं सुदूर भारत से पर मन में बसता है हर पल
मेरी भारत माता का है अक्षय वरदान १५ अगस्त।

ले अटल कर्म औ देश प्रेम फहराये भारत का तिरंग
हों स्वार्थहीन मन न मलीन है नव विहान १५ अगस्त।
जागो जागो भारत वासी न सुप्त रहो कहे देश प्रेम
बस यह सब ही बतलाने को आता सुजान १५ अगस्त।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो