स्वप्निल द्वीप

04-02-2019

स्वप्निल द्वीप

शैलेन्द्र चौहान

अच्छा होता
विस्मृत हो जातीं
सारी परिकथाएँ, 
चमचम मनोहर वे
स्वप्निल द्वीप !
 
        यथार्थ चीर देता
        तलवार की धार से
        विगत और वर्तमान को
        दो भागों में
 
            ठहर जाती हवा
            छुप जाता चाँद
            हँसते रहते हम
 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा
कविता
साहित्यिक आलेख
कहानी
हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
सामाजिक आलेख
स्मृति लेख
आप-बीती
विडियो
ऑडियो