स्वदेश प्रेम

01-11-2020

ना पूछो कितने ज़ुल्म सहे 
आज़ादी के उन मतवालों ने 
देश के लिए दे दी प्राणाहुति 
क्रांति की आग जलाने वालों ने 
 
दंभ किया चूर दुश्मनों का 
हुई ख़त्म गुलामी की रात 
वीरों का संघर्ष हुआ सफल 
तब आया स्वतंत्र प्रभात 
 
स्वदेश प्रेम में थे वो डूबे 
मातृभूमि थी माँ से बढ़कर 
वतन अब तुम्हारे हवाले 
कर गए सफ़र ये कहकर 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें