सूरज की क्या हस्ती है

15-02-2021

सूरज की क्या हस्ती है

अविनाश ब्यौहार

पिता गए क्या
लगता है
उजड़ी हुई गिरस्ती है।
 
रिश्ते-नातों
का पुल
सहसा टूट गया।
अपने तो अपने
बेगाना-
छूट गया॥
 
गौरैया-सुआ के बिन
उजड़ी हुई सी
बस्ती है।
 
रात हुई और
निकले हुए
हैं तारे।
मन में गंध
वेद मंत्रों को
उच्चारे॥
 
रातों को
दिन में बदले
सूरज की क्या हस्ती है।
 
गर्मी की ऋतु
हाहाकार-
मचाती है।
नदियों-पोखर
का पानी
पी जाती है॥
 
हरे-हरे पत्ते पीले
जेठ मास की
पस्ती है।
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें