सूखे पत्ते

03-05-2012

सूखे पत्ते

नवल किशोर कुमार

सूखे पत्ते,
टूट रहे हों जैसे,
हम भी तो हो रहे हैं दूर
अपनी मिट्टी से
अपने जड़ों से
एक अनजानी
कभी पूरी न होने वाली
इच्छाओं के पीछे
बिना यह सोचे
कि हमारा भविष्य क्या होगा
हमारा अस्तित्व क्या होगा
चले जा रहें हैं बस
बिन मंज़िल का मुसाफ़िर बन
एक ऐसे रास्ते पर
जो कहीं खत्म नहीं होता
कभी सोचता हूँ
क्या यही सपना है
जो देखा था कभी
मेरे और तुम्हारे
पूर्वजों ने हमारे लिए
हमारे बेहतर कल के लिए !

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
ललित निबन्ध
सामाजिक आलेख
विडियो
ऑडियो