देख तमाशा स्त्री का
वेदों में देख पुराणों में देख
उपनिषद में देख संहिता में देख 
गली में देख सड़क पर देख
घर में देख  बाज़ार में देख

 

देख तमाशा स्त्री का
बच्चा जनने की मशीन है यह
पुरुष लुभाने का साधन है यह
मन बहलाने की चीज़ है यह
डार्क फैंटेसी रचने की तरक़ीब है यह

 

देख तमाशा स्त्री का 
देख तमाशा इस समाज का
गुलाम बनाने की संस्था है यह
परंपरा निभाने की ज़ंजीर है यह
ऐ स्त्री! जाग, उठ, तोड़ गुलामी
बस अब तोड़ इन ज़ंजीरों को!

0 Comments

Leave a Comment