सृजन

शशि पाधा

जब रिमझिम हो बरसात
और भीगें डाल और पात
जब तितली रंग ले अंग
और फूल खिलें सतरंग

जब कण -कण महके प्रीत
              तब शब्द रचेंगे गीत

जब नभ पे हँसता चाँद
और तारे भरते माँग
जब पवन चले पुरवाई
हर दिशा सजे अरूणाई

जब मन छेड़े संगीत
              तब शब्द लिखेंगे गीत

जब पँछी करें किलोल
लहरों में उठे हिलोल
जब धरती अम्बर झूमें
और भँवरे कलिका चूमें

जब बन्धन की हो रीत
              तब शब्द बुनेंगे गीत

जब कोकिल मिश्री घोले
पपिहारा पिहु-पिहु बोले
कोई वासंती पाहुन आये
नयनों से नेह बरसाये

जब संग चले मनमीत
              तब शब्द बनेंगे गीत

0 Comments

Leave a Comment