शुभ्र चाँदनी सी लगती हो

15-01-2021

शुभ्र चाँदनी सी लगती हो

डॉ. सुशील कुमार शर्मा

शुभ्र चाँदनी सी लगती हो,
किस के लिए सँवरती हो।
 
मन ही मन तुम मुझको चाहो,
कहने से क्यों डरती हो।
 
जब भी रस्ता तेरा निकलूँ,
छुप छुप देखा करती हो।
 
खो जाता हूँ तेरे अंदर,
लब पर लब जब धरती हो।
 
मेरा मन तुमसे है उलझा,
तुम भी मुझ पर मरती हो।
 
रूठा करती हरदिन मुझसे,
उतना चाहा करती हो।
 
जब भी तन मन से थक जाता,
मुझ में जीवन भरती हो।
 
तुम मेरे मन की कविता हो,
मन मधुवन से सरती हो।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

गीत-नवगीत
सामाजिक आलेख
कविता
कविता-मुक्तक
लघुकथा
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
दोहे
साहित्यिक आलेख
सिनेमा और साहित्य
कहानी
बाल साहित्य कविता
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में