श्री कृष्ण

15-08-2020

श्री कृष्ण

आलोक कौशिक

सत्य के रक्षक 
अधर्म समापक 
दुष्ट विनाशी 
धर्म स्थापक 


हैं सुदामा सखा 
सुभद्रा पूर्वज 
देवकीनंदन 
वसुदेवात्मज 


वो पार्थसारथी 
गोप गोपीश्वर 
अजेय अजन्मा 
श्रीहरि दामोदर 


प्रेम के पर्याय 
परंतु वितृष्ण 
वो राधावल्लभ 
हैं वही श्री कृष्ण 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
लघुकथा
कहानी
गीत-नवगीत
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो