शोभांगी

01-05-2020

तुम्हारा मिलना
मेरे लिए प्रकृति का सबसे बड़ा सच है
ईश्वर का उपहार
सच कहते हैं कुछ लोग
असंभव कुछ भी नहीं
हमारी कल्पना से परे
कुछ नहीं होता
क्योंकि हम जो कुछ सोचते हैं
ब्रह्मांड में कहीं ना कहीं घट रहा होता है
अथवा
घटना शेष है।


तुम्हारा मिलना प्रकृति के नये-नये रूपों से
परिचित होने जैसा है।
कभी शिष्या बनकर
पूछती हो कई-कई प्रश्न
नन्ही बिटिया की तरह
कानों की बाली के लिए तुम्हारा मचलना
आह्लादित करता है भीतर तक
मित्र की तरह
यात्रा की थकान
मुझसे ज़्यादा झेली है तुमने मेरे लिए
पत्नी की तरह हर शाम
मेरे लौटने के इंतज़ार में कितने क्षण
घड़ी देखकर गुज़ारती हो तुम
मेरी सुरक्षा की कामना करता
तुम्हारा रक्षासूत्र
कहाँ कभी अलग होता है मुझसे
और...  और. . .
उदास पलों में प्रियतमा बन
मेरे कांधे पर सर रखकर मुझे सहलाती
तुम्हारी हथेलियों का स्पर्श
हरा देता है जीवन के कठोर सच को
सचमुच
प्रकृति रोज़ नये-नये रूपों में
उतरती है मेरे आंगन में
शोभांगी
तुम्हारा होना सार्थकता है मेरे जीवन की
                               तुम्हारा न होना 
                             जैसे अधूरा हो जाना
                         ओस के बिना फूल की तरह।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें