शिकायत सब से है लेकिन

06-08-2020

शिकायत सब से है लेकिन

डॉ. मनीष कुमार मिश्रा

जो कहनी थी
वही मैं बात
यारो भूल जाता हूँ
किसी क़ी झील सी आँखों में
जब भी डूब जाता हूँ

नहीं मैं आसमाँ का हूँ
कोई तारा मगर सुन लो
किसी के प्यार के ख़ातिर
मैं अक्सर टूट जाता हूँ
 
शिकायत सब से है लेकिन
किसी से कह नहीं सकता
बहुत गुस्सा जो आता है
तो ख़ुद से रूठ जाता हूँ
 
किसी क़ी राह का काँटा
कभी मैं बन नहीं सकता
इसी कारण से महफ़िल में
अकेला छूट जाता हूँ
 
मासूम से सपनों क़ी मिट्टी
का घड़ा हूँ मैं
नफ़रत क़ी बातों से
हमेशा फूट जाता हूँ।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

शोध निबन्ध
साहित्यिक आलेख
सामाजिक आलेख
कविता
कविता - क्षणिका
कहानी
विडियो
ऑडियो