26-06-2014

शहर में ये कैसा धुँआ हो गया

सुशील यादव

१२२    १२२    १२२

शहर में ये कैसा धुँआ हो गया
कहीं तो बड़ा हादसा हो गया

किसी ज़िद, न जाने, वहाँ था खड़ा
शिनाख़्त, मेरा चेहरा हो गया

हुकुम का ग़ुलाम, जिस की जेब हो
शह्र का वही, बादशा हो गया

हमारे वजूद की, तलाशी करो
ये खोना भी अब, सिलसिला हो गया

ये चारागरों जानिब ख़बर मिली
मर्ज़ ला इलाज-ए-दवा हो गया

अदब से झुका एक, मिला सर यहाँ
'सलीक़ा' 'सुशील' का, पता हो गया

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख/कहानी
दोहे
ग़ज़ल
कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो