आता है जब सूरज
अँधेरा भाग जाता है 
चहकती हैं चिड़ियाँ 
सवेरा हो जाता है 
 
सुबह सवेरे उठने से 
स्वस्थ रहता है तन 
सूर्योदय की बेला में 
चलता है शीतल पवन 
 
जो जागते हैं सवेरे 
करते हैं अपना काम 
जीवन में केवल वही
बन पाते हैं महान् 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कविता
कविता
लघुकथा
कहानी
गीत-नवगीत
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में