अक्षय, अक्षत, विनीत जब
नई कक्षा में आये।
नव सत्र के पहले दिन
गदगद हो मुस्काये॥

 

सब ने संकल्प लिया
नियमित खूब पढ़ेंगे।
सबको दोस्त बना के
कभी नहीं झगड़ेंगे॥

 

गृह कार्य मिलेगा
पूरा उसे करेंगे।
सिखलायेंगे जो भी
उसको याद रखेंगे॥

 

बात बड़ों की मानें
उनका मान रखेंगे।
मात, पिता, गर्व करें
ऐसा कार्य करेंगे॥

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
अपनी बात
कविता - हाइकु
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
नवगीत
विडियो
ऑडियो