संपूर्ण रूप से

01-07-2020

संपूर्ण रूप से

डॉ. तृप्ति कापड़ी

कुछ टूट गया है मेरे अंदर इतनी ख़ामोशी से कि, 
किसी को पता भी न चल सका
मैं बिखर चुकी हूँ इतनी ख़ामोशी से कि,
कोई देख भी न पाया
दिल में पत्थर रख लिया
आँखों को सख़्त हिदायत दे दी
कि दर्द पिघलकर आँखों से बहने न पाए
क्योंकि मैं टूटी ज़रूर हूँ
टुकड़ा-टुकड़ा होकर बिखरी ज़रूर हूँ
लेकिन मैंने उन टुकड़ों को सँभालकर रखा है 
सहेज कर रखा है
उन्हें बिखरने नहीं दिया है
संपूर्ण रूप से...

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो