रोली ने कविताएँ लिख के,
ख़ुशी में मम्मी को सुनाईं।
कविताओं को पढ़ के मम्मी,
ख़ुश हो फूली नहीं समायीं।
 
बेटी कविताएँ अच्छी हैं,
पर, ये बात समझ ना आए।
हिंदी की कविताओं में क्यों,
अंग्रेज़ी के शब्द मिलाए?
 
बोली रोली, कविताओं में,
शामिल बोलचाल की भाषा।
इसमें ग़लत नहीं है कुछ भी,
करती मन को नहीं निराशा।
 
मम्मी ने समझाया बिटिया,
बोलचाल में ध्यान लगाएँ।
जिस भाषा में बोलचाल हो,
उसमें दूजे नहीं मिलाएँ।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता - हाइकु
बाल साहित्य कविता
कविता
किशोर साहित्य आलेख
बाल साहित्य आलेख
अपनी बात
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
हास्य-व्यंग्य कविता
गीत-नवगीत
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में