कोरोना से हो परेशान।
सभी हो रहे हैं हलाकान॥

 

बाहर कर्फ़्यू, सब लाचार।
घर में है पूरा परिवार॥

 

सूनी सड़क, गली,मोहल्ला।
नहीं शोर, ना हल्ला-गुल्ला॥

 

टी.वी, हो या हो अख़बार।
कोरोना का ही समाचार॥

 

सजग रहो, निर्देश निभाओ।
सुरक्षा के उपाय अपनाओ।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - हाइकु
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
कविता
किशोर साहित्य आलेख
बाल साहित्य आलेख
अपनी बात
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
हास्य-व्यंग्य कविता
नवगीत
विडियो
ऑडियो