साहित्यहीन हिन्दी

01-04-2021

साहित्यहीन हिन्दी

राजनन्दन सिंह

हमारा हिन्दी सिनेमा
हम पूर्वी हिन्दी भाषियों को
नौकर दरबान रसोईया
पानवाला दूधवाला
चायवाला खोमचावाला
और कभी-कभी 
राजनीति का छोटा-मोटा 
बदमाश दिखाता है
 
हमारी धरती के गौतम महावीर
पाणिनी चाणक्य मौर्य गुरुगोविन्द
भगवान बिरसा वीर कुँवर
बाबू राजेन्द्र वशिष्ठ नारायण
और प्रतिवर्ष संघ लोक सेवा आयोग में
हमारी सफलता का प्रतिशत 
नज़रअंदाज़ करता है
छुपाता है
 
हमारी सादगी में हमें पता नहीं चलता
मनोरंजन के नाम पर 
यह साहित्यहीन फ़िल्मी हिन्दी 
हमारे लिए कितनी घाती है
हमें और हमारी पूर्वी हिन्दी को 
कितना नुक़सान पहुँचाता है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
सम्पादकीय प्रतिक्रिया
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में